बार-बार यूरिन आना या उसे न रोक पाना, क्यों होता है ऐसा?

तेज हंसते, खांसते या छींकते हुए अचानक यूरिन पास हो जाने की परेशानी महिलाओं में देखने को मिलती है। टॉयलेट जाने के लिए उठते-उठते ही यूरिन की कुछ बूंदें बाहर निकल आती हैं, जिन्हें वो चाहकर भी नहीं रोक पातीं, ऐसा क्यों होता है, दैनिक भास्कर से खास बातचीत पर बता रहे हैं सीनियर कंसल्टेंट यूरोलोजिस्ट डॉ. संजय जोहरी

बढ़ती उम्र के साथ क्यों पास हो जाता है यूरिन?

गॉल ब्लैडर शरीर में लीवर के नीचे होता है और ये खाना पचाने में हमारी मदद करता है। इस बारे में डॉ. जोहरी बताते हैं कि यूरिन न रोक पाने की शिकायत बढ़ती उम्र की महिलाओं में आमतौर पर देखी जाती है। हाइपर-सेंसिटिव होते ब्लैडर, हार्मोनल इम्बैलेंस या मेनोपॉज के बाद महिलाओं के यूरेथरा यानी टॉयलेट के रास्ते में सिकुड़न होने की वजह से भी उन्हें यूरिन रोकने में दिक्कत होती है। ऐसे में जब भी वे तेज हंसती, जोर से छींकती या खांसती हैं, तब शरीर पर पड़ने वाले एबडोमिनल स्ट्रेस की वजह से अचानक यूरिन पास हो जाता है।

कम उम्र में क्यों पड़ती है बार-बार वॉशरूम जाने की जरूरत?

दूसरी स्थिति के बारे में बात करते हुए डॉ. जोहरी ने बताया कि कम उम्र की महिलाओं में ओवर-एक्टिव ब्लैडर होने की वजह से बार-बार वॉशरूम जाने की परेशानी होती है। इस स्थिति में महिलाओं को अपने इंटिमेट पार्ट में किसी तरह की जलन या तकलीफ नहीं होती है, लेकिन थोड़ी-थोड़ी देर में उनके दिमाग तक ये अलर्ट पहुचंता है कि उन्हें टॉयलेट रिलीज करना है। उन्होंने आगे कहा कि लोवर बॉडी पार्ट से जुड़ी कोई भी समस्या हो, जानकारी के आभाव में महिलाएं किसी भी डॉक्टर के पास चलती जाती हैं। गलत ट्रीटमेंट लेने की वजह से उनकी परेशानी घटने की बजाय बढ़ने लगती है।

कम उम्र की महिलाओं को बार-बार वॉशरूम जाने की पड़ती है जरूरत
कम उम्र की महिलाओं को बार-बार वॉशरूम जाने की पड़ती है जरूरत

कैसे करें ब्लैडर को बैलेंस?

आप अपने ब्लैडर को स्वस्थ्य रखना चाहती हैं, तो ब्लैडर के लिए कीगल एक्सरसाइज करें। इसके बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यूरोलोजिस्ट से संपर्क करें। ये एक्सरसाइज ब्लैडर, यूट्रस, छोटी आंत और रेक्ट्र्म को मजबूत करने में मदद करता है। खाने पीने में चाय, कॉफी, कोल्ड ड्रिंक, ज्यादा तेल-मसाला, तीखा, खट्टा, चटपटा, कार्बोनेटेड ड्रिंक्स लेने से बचें। अगर वजन बढ़ा हुआ है, तो उसे कम करें। साथ ही पानी कम पीएं, रेगुलर वर्कआउट करें और हेल्दी डाइट लें।

Souce: Bhaskar

0 Comments